बैल बधिया न करावें : 29 Rules Bishnoi

बैल बधिया न करावें : 29 Rules Bishnoi 


बैल बधिया न करावें : गाय के बछड़े को बड़ा होने पर खसी या नपुंसक न करावें। कृषि एवं पशु पालन, बिश्नोइयों के मुख्य व्यवसाय रहे हैं। इसी कारण गाय का बछड़ा बड़ा होकर बैल बनकर हल जोतने के काम आता रहा है। पर इससे पहले बछड़े को नपुंसक कराना होता था। नपुंसक बनाने का परम्परागत तरीका बछड़े के लिये बड़ा पीड़ादायक था। सन्तान की तरह बछड़े का पालन-पोषण करके, बड़ा करके उसे ऐसा कष्ट पहुंचाना लोगों के लिये सम्भव नहीं था। इसके साथ ही इस कार्य से अहिंसा का पालन भी नहीं होता था। 

इसलिये अपने घर में अपनी गाय के बछड़े को बधिया कराना बंद कर दिया गया। इस नियम का दृढ़ता से पालन होता रहा है। अब तो खेती भी यंत्रों से होनी प्रारम्भ हो गई है। ऐसे में इस नियम की पालना करना सरल हो गया है।

0/Post a Comment/Comments

Stay Conneted

Hot Widget