बिश्नोई समाज के 29 नियम हिन्दी में || 29 Rules of Bishnois In Hindi





जाम्भोजी द्वारा प्रतिपादित 29 नियम 



जांभोजी ने प्रत्येक जाति, वर्ग और वर्ण के महिला-पुरूष को आत्मोत्थान का मार्ग दिखाया तथा नीच और पतित को ऊँचा उठाया था। बिश्नोई पंथ प्रवृति के साथ निवृति- साधन का मार्ग है, जिसकी पुष्टि बिश्नोई पंथ के 29 धर्म नियमों से भी होती है। 


बिश्नोई समाज के 29 नियम 


1.तीस दिन सूतक रखना।
2 .पांच दिन का रजस्वला रखना।
3. प्रातः काल स्नान करना।
4. शील , सन्तोष व शुद्धि रखना।
5. प्रातः सायं सन्ध्या करना।
6. सांझ आरती, विष्णु गुन गाना।
7. प्रातः काल हवन करना।
8. पानी छानकर पीयें व वाणी षुद्ध बोलें।
9. ईंधन बीनकर व दूध छानकर लें।
10. क्षमा - सहनषीलता रखें।
11. दया - नम्रभाव से रहें।
12. चोरी नहीं करनी।
13. निन्दा नहीं करनी।
14. झूठ नहीं बोलना।
15. वाद-विवाद नहीं करना।
16. अमावस्या का व्रत रखना।
17. भजन विष्णु का करना।
18. प्राणी मात्र पर दया रखना।
19. हरे वृक्ष नहीं काटना।
20. अजर को जरना।
21. अपने हाथ से रसोई पकाना।
22.थाट अमर रखना।
23.बैल को बधिया न करना।
24. अमल नहीं खाना।
25. तंमाखू नहीं खाना व पीना।
26.भांग नहीं पीना।
27.मद्यपान नहीं करना।
28.माँस नहीं खाना।
29.नीले रंग का वस्त्र नहीं पहनना

0/Post a Comment/Comments

Stay Conneted

Hot Widget